Blog

Bikaneri Ghewar

Bikaneri Ghewar

On hearing the name of Ghewar, mouth watering comes in the name of Ghewar in Rajasthan’s famous sweets. Ghewar is formed in a circular shape Ghewar is made of 2 types of cream and without creamy. Cream is applied in the cream Ghewar, which makes it more delicious.

Bikaner’s Ghewar is famous all over India. The time of formation of Ghevar in Bikaner lasts from Diwali to Holi. Enclosures quickly deteriorate during summer time. Some people also eat faded Ghewar with milk which increases physical strength.

"<yoastmark

If you talk about the price, Ghewar  is available in the range of 400-1000 rupees per kg. The practice of Ghewar in Rajasthan is quite old. If it is also called the dessert of Ghewar

, it will not be wrong. Ghewar looks like honeycomb in appearance, it is very sweet to eat.

Hope you liked our blog, do write your comments and share more and more.

You can also join us for new updates ~~~~~~~~~~~~~~~~

 

Instagram – https://www.instagram.com/solotravelleraryan

Facebook- http://www.facebook.com/solotravelleraryan

Twitter – https://twitter.com/travelwitharyan

Blog – https://travelwitharyan.com

बीकानेरी घेवर

Bikaneri Ghewar
घेवर का नाम सुनते ही मुँह में पानी आ जाता है  राजस्थान  की  प्रसिद्ध मिठाई में घेवर का भी नाम आता है । घेवर गोलाकार आकर में बनता है  घेवर 2 तरह के बनते है मलाई वाले ओर बिना मलाई वाले । मलाई वाले घेवर में घेवर के ऊपर मलाई लगा दी जाती है जो इसको ओर ज्यादा स्वादिष्ट बना देती है ।

बीकानेर के घेवर पूरे भारत मे प्रसिद्ध है। बीकानेर में घेवर के बनने का  समय दीवाली से होली तक रहता है। गर्मी के समय मे घेवर जल्दी खराब हो जाते है । कुछ लोग फीके घेवर भी दूध के साथ खाते  है  जो शारीरिक शक्ति बढ़ाता है ।

Bikaneri Ghewar
Bikaneri Ghewar

अगर कीमत की बात की जाए तो घेवर 400-1000 रुपये किलो के हिसाब से मिलते है । राजस्थान में घेवर का चलन काफी पुराना है । इसे राजस्थान की मिठाई भी कहा जाए तो गलत नही होगा। दिखने में घेवर मधुमखियों के छत्ते के समान दिखाई देता है खाने में बहुत मीठा होता है।

उम्मीद है आपको हमारा ब्लॉग पसंद आया अपने कमेंट जरूर लिखे व ज्यादा से ज्यादा  शेयर जरूर करे ।

नए अपडेट के लिए भी आप हमसे जुड़ सकते है ~~~~~~~~~~~~~~~~`

Instagram – https://www.instagram.com/solotravelleraryan

Facebook- http://www.facebook.com/solotravelleraryan

Twitter – https://twitter.com/travelwitharyan

Blog – https://travelwitharyan.com

Hawa Mahal , Jaipur

hawa mahal

On 1 March 2020, due to some work, it was planned to go to Jaipur. Thought I would bring back some memories from there, reached Jaipur at 6 in the morning, got out from there to roam at 7 o’clock, and found out before 9 o’clock no place would open for tourists. Then thought that today we should go to see Hawa Mahal .

The wind reached the Hawa Mahal at around 8 o’clock in the morning when the wind falls on the palace, the view is worth seeing.

Hawa Mahal , Jaipur
Hawa Mahal , Jaipur

First of all, some information about Hawa Mahal – Hawa Mahal is in Jaipur, the capital of Rajasthan, it was built in 1799 by Maharaja Sawai Pratap Singh. It is made of lime and red sandstone. It is a five-floor building, and is only 18 inches wide from the top, it has many lattice windows which are called Jharokha in Rajasthani.

Everyday many tourists come here to see it during the morning and evening hours. Came to Jaipur and did not see Hawa Mahal but did not see anything

hawa mahal
Hawa Mahal, Jaipur

Jaipur is also connected by air, railway, road all the routes. One can also come to Jaipur by international air route. Amber Fort, City Palace, Jantar Mantar, Nahargarh Fort, Jal Mahal, Albert Hall Museum, Birla Mandir, Jaipur are also places to see in Jaipur. To stay in Jaipur, you get hotels, guest houses, dharamshala for a low price.

 

Hope you liked our blog, write your comments and share as much as you can.

You can also join us for New Updates ~~~~~~~~~~~~~~~~

Instagram – https://www.instagram.com/solotravelleraryan

Facebook – http://www.facebook.com/solotravelleraryan

Twitter – https://twitter.com/travelwitharyan

Blog – https://travelwitharyan.com

हवा महल, जयपुर

Hawa Mahal , Jaipur

1 मार्च 2020 किसी काम की वजह से जयपुर जाने का कार्यक्रम बना । सोचा कुछ यादें तो वहाँ से वापिस लाऊंगा सुबह 6 बजे जयपुर पहुंचा , वहा से  7 बजे घूमने के लिए निकला तो पता चला 9 बजे से पहले कोई जगह पर्यटकों के देखने के लिए नही खुलती। फिर सोचा आज हवा महल ही  देखने जाया जाए

करीबन 8 बजे हवा महल (Hawa Mahal) पहुंचा सुबह सुबह सूरज की किरण जब हवा महल पर गिरती है तो नजारा देखने लायक होता है ।
सबसे पहले हवा महल की कुछ जानकारी –  हवा महल राजस्थान की राजधानी जयपुर में है इसे सन 1799 में  महाराजा सवाई  प्रताप सिंह ने बनवाया था। ये चूने ओर लाल बलुआ पत्थरो से बना है ।  ये पांच मंजिल बिल्डिंग है , ओर ऊपर से सिर्फ 18 इंच चौड़ी ही है इसमे बहुत सारी जालीदार खिड़किया है जिसे राजस्थानी में झरोखा कहा जाता है

रोजाना यहां बहुत से पर्यटक सुबह और शाम के टाइम इसे देखने आते है । जयपुर आये और हवा महल नही देखा तो कुछ नही देखा

जयपुर  हवाई , रेलवे, सड़क सभी मार्गो से भी जुडा है। अंतरराष्ट्रीय हवाई मार्ग से भी जयपुर आ सकते है। जयपुर में देखने के लिए आमेर किला, सिटी पैलेस, जंतर मंतर, नाहरगढ़ किला, जल महल, अल्बर्ट हाल म्यूजियम  ,बिरला मंदिर,  जगह भी है । जयपुर में रहने के लिए आपको होटल, गेस्ट हाउस, धर्मशाला कम कीमत में मिल जाते है।

उम्मीद है आपको हमारा ब्लॉग पसंद आया अपने कमेंट जरूर लिखे व ज्यादा से ज्यादा  शेयर जरूर करे ।

नए अपडेट के लिए भी आप हमसे जुड़ सकते है ~~~~~~~~~~~~~~~~`

Instagram – https://www.instagram.com/solotravelleraryan

Facebook http://www.facebook.com/solotravelleraryan

Twitter – https://twitter.com/travelwitharyan

Blog – https://travelwitharyan.com

नमस्कार दोस्तो
अपनी यात्राओ से दिल मे उभरने वाले पलो को  लिखने का प्रयास कर  रहा हु । उम्मीद है आप सब को पसंद आएगा इसी विश्वास के साथ शुरुवात कर रहा हु
धीरे धीरे ब्लॉग को आगे बढ़ाऊंगा उसमे ट्रेवल से जुड़ी जानकारियां, यात्रा का पूरा खर्च, होटल की जानकारी, वहा के घूमने वाली जगहों की जानकारी, लाइफस्टाइल से जुड़े कुछ ब्लॉग, खाने के ब्लॉग ताकि सभी टेस्टी खाने का लुप्त उठा सके । साथ मे कुछ नया करने के भी सोचा है । जहाँ की में यात्रा करूँगा वहा के रेलवे स्टेशन का वीडियो और फ़ोटो  भी क्लिक करूँगा ताकि हमारे भारत के रेलवे स्टेशनों की जानकारी भी सभी को मिले।
सके इलावा मेरे शरीर पर जो  भारत के 28 राज्यो व 9 केन्द्र शाशित प्रदेश के नक्शो के टैटू है उन सभी जगहों का ब्लॉग भी आएगा
इसी आशा के साथ निकल पड़ा हु | की आप सभी का प्यार हमेशा के लिए बना रहेगा
आर्यन सोनी
बीकानेर

Kedarnath Yatra 2019

kedarnath temple

Hello friends

Uttarakhand, which is called heaven of the world, will not be wrong. Here you will get to see temples of thousands of years old and you will also get the privilege of bathing in the water of  Holy Maa Ganga River. So we take you to Kedarnath.

In June 2019, I got to visit Kedarnath and I am sharing some of his memorable moments. Lord Shiva’s holy land, which is also a Jyotirlinga, you have to first go to Haridwar to visit Kedarnath. Railway, bus facility is available from every place to Haridwar, Haridwar is about 220 kilometers from Delhi, Haridwar, you can stop for 1 day to see Ganga ji and see Ganga Aarti from there you will have to go to Rishikesh which is about 20 Kilometers from Haridwar.

kedarnath

From Rishikesh, you will get a bus to Sonprayag which runs around 4-5 early in the morning followed by a roadways bus near 11 am. Come, if you want, you can go by car but the bus will be cheap, you can reach Sonprayag for around 500 rupees in the bus. It takes about 8-10 hours by bus from Rishikesh to Sonprayag. On the way you will see a high mountain somewhere, a river making a loud sound.

kedarnath view

After reaching Sonprayag, if you stop at night, you will get the facility of the hotel there. If your budget is less, then in the hotel 2 km before Sonprayag, you will also get hotels for less rupees. You will have to come near the bridge after getting ready to get up early from there at 3 am in the morning. From there you will be taken to Gaurikund by a small carriage because there is a narrow road from Sonprayag to Gaurikund is about 5 kilometers.

The road to Kedarnath Trek starts from Gaurikund, which is about 20 to 22 kilometers on foot. From here you can start climbing on foot, otherwise you can also go by mule or Sedan . You will also get the facility of helicopter here. You will get helicopters from Fata and Gaurikund. The path to Kedarnath is very difficult, in the middle you will continue to have facilities to eat and drink. Medical facilities are also free from the Government of Uttarakhand. There is also a water system at every place. On the way, it can start raining anytime, so keep raincloth together with Rainy. It is also very cold here, so take special care of yourself.

On the way to Kedarnath, if you see large mountains covered with snow, then you will find a deep ditch somewhere. People who have any Respiratory Disease need to take special care. The mule leaves 1 kilometer before the temple complex. The helicopter will leave you 500 meters in advance. You will get the facility of hotel and guest house for staying in Kedarnath. You will also get the facility of tent house, which will be available to the person at around Rs 300-500. A plate of food will be available at Rs 200 for food.

On reaching Kedarnath, you will feel that you have not seen such a scene in heaven. There are two times of darshan in the temple, you can offer water in the temple at 4 o’clock in the morning, you will have darshan of Lingi and at night you are made to have darshan of Kedarnath Baba. The outer courtyard of the temple is very large. If you have to see, then you have to be in the line at 3 o’clock, then later about 1-2 kilometers of line are installed. There is Bhimsheela behind the temple, it is the same Bhimsheela due to which the way of water was changed when disaster came.

bherunath temple , kedarnath
Bhaironath Temple , Kedarnath

There is a temple of Bhaironath Temple on the mountain at a distance of 1 kilometer in Kedarnath itself. It is said that after visiting Kedarnath, it is necessary to visit Bhaironath Temple or else the journey is not considered complete.
There is Vasuki Tal on the hills, about 8-9 km from Kedarnath, it is said that this Vasuki Nath snake which is in the neck of Lord Shiva is his place. This is where the lotus blooms, which is most dear to Lord Shankar.

kedarnath view
Medical Assistance on Kedarnath

Kuber Mountain and Brahma Cave are located in the huge snow covered mountains facing the back of Kedarnath temple, it is said that Badrinath Dham is behind this mountain only.

For Medical Assistance on Kedarnath road, contact -01364- 233946, 8532954755 and 9897663755

 

 

 

 

Hope you liked our blog, write your comments and share as much as you can.

You can also join us for New Updates ~~~~~~~~~~~~~~~~

Instagram – https://www.instagram.com/solotravelleraryan

Facebook http://www.facebook.com/solotravelleraryan

Twitter – https://twitter.com/travelwitharyan

Blog – https://travelwitharyan.com

केदारनाथ यात्रा 2019

kedarnath 2019

नमस्कार दोस्तो

उत्तराखंड जिसे दुनिया का स्वर्ग कहा जाए तो गलत नही होगा। यहाँ आपको हजारो सालो पुराने मंदिरो के दर्शन करने को मिलेंगे साथ ही माँ गंगा के जल में नहाने का सौभाग्य भी प्राप्त होगा। तो हम आपको लेकर चलते है केदारनाथ ।

जून  2019 में केदारनाथ जाने का मौका मिला उसके कुछ यादगार पल आप सबसे शेयर कर रहा हु | भगवान शिव का पावनधाम जो कि एक ज्योतिलिंग भी है केदारनाथ जाने के लिए आपको सबसे पहले हरिद्वार जाना पड़ेगा । हरिद्वार जाने के लिए रेलवे , बस की सुविधा सब जगह से  उपलब्ध है  दिल्ली से हरिद्वार करीबन 220 किलोमीटर है  हरिद्वार आप 1 दिन रुक के वहा गंगा जी के दर्शन गंगा आरती देख सकते है वहां से आपको ऋषिकेश जाना होगा जो कि तकरीबन हरिद्वार से 20 किलोमीटर है ।

 

kedarnath 2019

ऋषिकेश से ही आपको सोनप्रयाग के लिए आपको बस मिल जाएगी जो सुबह जल्दी करीबन 4-5 चलती है उसके बाद 11 बजे के पास भी एक रोडवेज़ की बस है । आओ चाहे तो कार से भी जा सकते है पर बस आपको सस्ती रहेगी बस में करीबन सोनप्रयाग करीबन 500 रुपये में पहुंचा जा सकता है। ऋषिकेष से सोनप्रयाग जाने के लिए बस से  करीबन 8-10 घंटे का समय लगता । रास्ते मे आपको कही ऊंचे ऊंचे पहाड़, कही तेज़ आवाज करती नदिया दिखाई देगी।

 

 

kedarnath temple

सोनप्रयाग पहुंच कर आप रात को वही रुक जाए  आपको वहा होटल की  सुविधा मिल जाएगी। अगर आपका बजट कम है तो सोनप्रयाग से 2 किलोमीटर पहले होटल में आपको कम रूपये में भी होटल मिल जायेंगे।  सुबह वहाँ से 3 बजे जल्दी उठ के तैयार होके आपको पुल के पास आना होगा। वहां से आपको छोटी गाड़ी से गौरीकुंड  ले जाया जाएगा क्योकि वहा रास्ता सँकड़ा है सोनप्रयाग से गौरीकुंड करीबन 5 किलोमीटर ही है।

 

 

गौरीकुंड से शुरू होता है केदारनाथ धाम का रास्ता जो कि करीबन 20 से 22 किलोमीटर पैदल का है । यहाँ से आप पैदल चढ़ाई शुरू कर सकते है नही तो खच्चर या पालकी से भी जा सकते है। हेलीकॉप्टर की भी सुविधा आपको यहा मिल जाएगी। हेलीकॉप्टर आपको फाटा ओर गौरीकुंड से मिलेगा ।केदारनाथ का रास्ता बहुत कठिन है बीच बीच मे आपको खाने पीने की सुविधाएं मिलती रहेगा। मेडिकल की सुविधाएं भी यहाँ उत्तराखंड सरकार की तरफ से निशुल्क है। जगह जगह पानी की व्यवस्था भी है। रास्ते मे  कभी भी बारिश शुरू हो सकती है तो बारिश से बचाव के कपडे ओर बरसाती साथ मे जरूर रखे । यहां ठंड भी बहुत रहती है तो अपना विशेष ध्यान रखे ।

केदारनाथ रास्ते मे आपको  बर्फ से ढके बड़े बड़े पहाड़ दिखेंगे तो कही गहरी खाईया मिलेगी। जिन लोगों को सांस से सम्बंधित कोई बीमारी हो उन्हें विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। खच्चर मंदिर परिसर से 1 किलोमीटर पहले ही छोड़ देते है। हेलीकॉप्टर आपको 500 मीटर पहले छोड़ेगा। केदारनाथ में  आपको रहने के लिए होटल व गेस्ट हाउस की सुविधा मिल जाएगी । टेंट हाउस की भी सुविधा आपको यही मिलेंगी जो कि करीबन 300-500 रुपये पर व्यक्ति मिल जाएगी। खाने कर लिए यहा 200 रुपये पर प्लेट खाना मिल जाएगा ।

केदारनाथ पहुंचते ही आपको ऐसा लगेगा कि आप स्वर्ग में आ गए ऐसा दृश्य आपने कही नही देखा होगा । मंदिर में दो समय के दर्शन होते है सुबह 4 बजे मंदिर में आप जल चढ़ा सकते हो आपको लिंगी के दर्शन होंगे और रात को आपको केदारनाथ बाबा के श्रृंगार के दर्शन करवाये जाते है। मंदिर का बाहर का प्रांगण बहुत बड़ा है। अगर आपको दर्शन करने है तो आपको 3 बजे ही लाइन में लगना होगा बाद में करीबन 1-2 किलोमीटर की लाइन लग जाती है । मंदिर के पीछे ही भीमशीला है ये वही भीमशीला है जिसकी वजह से आपदा आने पर पानी का रास्ता बदला था ।

केदारनाथ में ही 1 किलोमीटर की दूरी पर पहाड़ पर भैरुनाथ बाबा का मंदिर है कहा जाता है कि केदारनाथ के दर्शन करने के बाद भैरुनाथ बाबा के दर्शन करने जरूरी है नही तो यात्रा पूरी नही मानी जाती।

केदारनाथ से करीबन 8-9 किलोमीटर दूर पहाड़ो पर वासुकि ताल है कहा जाता है कि ये वासुकि नाथ सर्प  जो भगवान शिव के गले मे  है उनकी जगह है। यही पर ब्रह्म कमल खिलता है जो कि भगवान शंकर को सबसे प्रिय है

केदारनाथ मंदिर के पीछे की तरफ दिखने वाले बर्फ से ढके विशाल पहाड़ो में ही कुबेर पर्वतब्रह्म गुफा है कहा जाता है कि इसी पर्वत के पीछे ही बद्रीनाथ धाम है

 

केदारनाथ रास्ते मे चिकित्सा संबधी सहायता के लिए -01364- 233946, 8532954755 व 9897663755 पर सम्पर्क करें

 

उम्मीद है आपको हमारा ब्लॉग पसंद आया अपने कमेंट जरूर लिखे व ज्यादा से ज्यादा  शेयर जरूर करे ।

नए अपडेट के लिए भी आप हमसे जुड़ सकते है ~~~~~~~~~~~~~~~~`

Instagram – https://www.instagram.com/solotravelleraryan

Facebook http://www.facebook.com/solotravelleraryan

Twitter – https://twitter.com/travelwitharyan

Blog – https://travelwitharyan.com